मध्य प्रदेश
छत्तीसगढ़
उत्तर प्रदेश
राजस्थान
नागरिक सेवाएं  
  • गैलरी


    View All >>

  • विविध


    सचिव नराकास एवं राजभाषा अधिकारी, मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय बीकानेर की ओर से राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए प्रसारितसचिव नराकास एवं राजभाषा अधिकारी, मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय बीकानेर की ओर से राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए प्रसारितसचिव नराकास एवं राजभाषा अधिकारी, मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय बीकानेर की ओर से राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार 


बड़ी खबरें

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा ग्रामोदय अभियान का समापन

    सभी के सहयोग से प्रदेश को ग्रामीण विकास में अव्वल लाने का लक्ष्य

    भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पं. दीनदयाल उपाध्याय शताब्दी वर्ष में सरकार जनता की मूलभूत आवश्यकताओं रोटी, कपड़ा, मकान, पढा़ई-लिखाई और दवाई की समुचित व्यवस्था करने के लिये प्रतिबद्ध है। श्री चौहान सीहोर जिले के ग्राम अहमदपुर में ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के समापन पर आम सभा को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, लोक निर्माण और सीहोर जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह, विधायक श्री सुदेश राय, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती संध्या मरेठा, अपर मुख्य सचिव श्री आर.एस.जुलानिया और बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।
    सरपंच-पंच निष्ठा से जुटें
    श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश को ग्राम विकास के क्षेत्र में देश में नम्बर एक पर लाने के लिये सभी का सहयोग जरूरी है। सरपंच- पंचों को अपने अधिकारों के साथ साथ अपने कर्तव्यों का भी निष्ठापूर्वक पालन करना चाहिए। श्री चौहान ने ग्रामोदय अभियान के समापन पर ग्रामीणों को संकल्प दिलाया कि वे अपने गाँव में साफ-सफाई, वृक्षारोपण जैसे जनहित के कार्यों पर विशेष ध्यान देंगे।
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की 22 हजार 805 ग्राम पंचायतों में आयोजित ग्राम संसदों में 25 लाख 70 हजार आवेदन व्यक्तिगत मांग तथा 3 लाख 33 हजार आवेदन सामुदायिक कार्य से संबंधित प्राप्त हुए। ग्राम पंचायतवार आवेदनों का परीक्षण किया जा रहा है।

  • विशेषज्ञों के अनुसार दस नये क्षेत्रों में होगा रोजगार निर्माण

    अगले पाँच साल में 70 लाख कौशल संपन्न युवाओं को मिलेंगे रोजगार के मौके

    भोपाल । मध्यप्रदेश में अगले पाँच साल में 70 लाख कौशल संपन्न युवा जनशक्ति को रोजगार के अवसर मिलेंगे। विशेषज्ञों के अनुमान के अनुसार प्रदेश में दस क्षेत्र ऐसे हैं जिनमें अगले पाँच साल में बड़े पैमाने पर रोजगार सृजन होगा। इनमें हास्पिटेलिटी, स्वास्थ्य, आई.टी., आईटीईएस, निर्माण, इलेक्ट्रिकल्स, ऑटो और ऑटो कंपोनेंट, फार्मा एवं मेडिसिन उत्पाद, फूड प्रोसेसिंग, केमिकल्स एवं फार्मास्युटिकल जैसे तेजी से उभरते क्षेत्रों में बड़ी संख्या में युवाओं को रोजगार मिलेगा।
    लघु अवधि के पाठ्यक्रम
    नये क्षेत्रों में जरूरी कौशल प्रशिक्षण को देखते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर कौशल विकास मिशन बनाया गया है। इसके अंतर्गत लघु अवधि के कौशल विकास कार्यक्रम और पाठयक्रम बनाये गये हैं। युवाओं को इसके जरिये रोजगार प्राप्त करने योग्य बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन योजना में हर साल ढाई लाख युवाओं को प्रशिक्षण दिया जायेगा। उनके हुनर को प्रमाणित किया जायेगा।

  • मुख्यमंत्री आवास योजना में 47 परिवार को मिले आशियाने

    प्रदेश के ग्रामों के लिये प्रेरणा स्त्रोत बना ग्राम नरेला
    भोपाल। जिला मुख्यालय सिवनी से लगभग 10 किलोमीटर दूर स्थित ग्राम नरेला सम्पूर्ण प्रदेश के लिये प्रेरणा स्त्रोत बनकर उभरा है। सिवनी जिले की ग्राम पंचायत नरेला में जिला प्रशासन द्वारा मुख्यमंत्री आवास योजना में 47 बेघर-जरूरतमंद परिवार को पक्का मकान उपलब्ध करवाया गया है। आवासों का लोकार्पण चिकित्सा शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं जिले के प्रभारी डॉ. शरद जैन ने किया। मुख्यमंत्री आवास योजना में हितग्राही का चयन ग्राम सभा द्वारा दिव्यांग, विधवाओं, गरीब एवं कमजोर आर्थिक स्थिति एवं बेघर/कच्चे मकान वाले परिवारों को प्राथमिकता के आधार पर किया गया है। योजना में एक दिव्यांग परिवार, 17 बी.पी.एल परिवार सहित कुल 47 परिवार को अपने सपने के आशियाने मिले हैं। शासन द्वारा हितग्राहियों को एक लाख रूपये उपलब्ध करवाये जाते हैं। हितग्राही का अंश 20 हजार रूपये होता है। कुल एक लाख 20 हजार रूपये में एक पक्का मकान बनवाया जाता है।

  • पंचायत स्तर पर मिट्टी परीक्षण के लिए मिनी लेब स्थापना के प्रयास : कृषि मंत्री श्री राधामोहन सिंह

    भोपाल : केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री राधामोहन सिंह ने कहा कि पंचायत स्तर पर मिट्टी परीक्षण के लिए मिनी लेब स्थापना के प्रयास किये जा रहे हैं। कृषि मंत्री ने सांसद आदर्श ग्राम में उन्नत कृषि तकनीक के उपयोग एवं कृषकों को वॉटर-शेड के माध्यम से सिंचाई के संसाधन उपलब्ध करवाने की बात कही। उन्होंने अधिक पानी वाली फसलों में माइक्रो एरिगेशन ‍स्प्रिंकलर के उपयोग पर भी बल दिया। खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिये एकीकृत उत्पादन सहायक होगा। उन्होंने कहा कि किसानों को मृदा स्वास्थ्य-कार्ड बनवाकर मिट्टी के अनुरूप कृषि उपज लेने से ही खेती को लाभ का धंधा बनाने में मदद मिलेगी। केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री सिंह आज रीवा में कृषि एवं अन्य संबंधित विभागों एवं कृषि वैज्ञानिकों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। जनसंपर्क तथा ऊर्जा मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, सांसद श्री जनार्दन मिश्र उपस्थित थे। किसानों को परम्परागत खेती के बजाय व्यावसायिक कृषि की ओर प्रोत्साहित करने की जरूरत होगी। खेतों की मिट्टी के अनुरूप फसल का चयन किया जाये। इन सब उपायों से ही किसानों की आय में वृद्धि होगी। उन्होंने एकीकृत उत्पादन के लिये किसानों को कृषि विज्ञान केन्द्र में भ्रमण करवाने तथा कृषि वैज्ञानिकों को समय-समय पर किसानों को सम-सामयिक सलाह देने के निर्देश भी दिये। कृषि मंत्री ने मृदा स्वास्थ्य कार्ड बनाने में गति लाने की बात कही। उन्होंने कहा कि जिले के जिन किसानों का गत वर्ष का लक्ष्य रह गया था, उसे चालू वर्ष में पूरा करवाया जाये। केन्द्रीय कृषि मंत्री ने जिले में मत्स्य उत्पादन के लिये किसानों को तालाब बनाने के लिये करवाये गये कार्यों की जानकारी भी संबंधित अधिकारियों से ली। उन्होंने कहा कि किसानों को अन्य जिलों और प्रदेशों में भ्रमण पर ले जाकर नई-नई तकनीक से परिचित कराया जाये। -आत्मा- परियोजना में किसानों के जागरूकता कार्यक्रम निरंतर किये जायें। श्री सिंह ने कहा कि कृषि अधिकारी तथा कृषि वैज्ञानिक समन्वय से किसानों को नई तकनीक बतायें ताकि मध्यप्रदेश में खेती के क्षेत्र में जो अच्छा कार्य हुआ है, वह आगे भी चलता रहे। संचालक कृषि श्री एम.एल. मीणा ने प्रदेश में कृषि विकास के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यों की योजना से कृषि मंत्री को अवगत करवाया। कलेक्टर ने बताया कि रीवा जिले में एनआरएलएम की महिला समूहों द्वारा कृषि के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यों के सकारात्मक परिणाम सामने आये हैं।



  • Connect With Gram Saurabh

    BLOG FACEBOOK
    YOU TUBE TWITTER